Offer Price

इक्कीसवीं शताब्दी में पूर्वी हिंदी की बोलियों का विकास (IKKISWIN SHATABDI MEIN POORVI HINDI KI BOLIYON KA VIKAS)

Rs 350.00 Rs 240.00

  • Pages: 172
  • Year: 2019, 1st Ed.
  • ISBN: 978-93-87441-32-3
  • Binding: Hardbound
  • Language: Hindi
  • Publisher: The Marginalised Publication

Description

हिंदी भाषा की बोलियों का साहित्य हिंदी साहित्य से अधिक पुराना और समृद्ध है. किसी भाषा का प्रादेशिक या सामाजिक भिन्नात्मक  रूप जिसकी अपनी व्याकरणिक संरचना एवं निश्चित शब्दावली हो, बोली कहलाती है. जो अपनी भाषा और संस्कृति खो देता है वह अपना सबकुछ खो देता है, एक तरह से मानसिक गुलाम बन जाता है. आज आवश्यकता इस बात की है कि हम अपनी मातृभाषा को प्रयोग में लाएं और उसे संवर्धित करने का प्रयास करें. इसी बात को ध्यान में रखते हुए इस किताब में  ‘इक्कीसवीं शताब्दी में पूर्वी हिंदी की बोलियों का विकास’ की स्थिति को  का प्रयास किया गया है…

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “इक्कीसवीं शताब्दी में पूर्वी हिंदी की बोलियों का विकास (IKKISWIN SHATABDI MEIN POORVI HINDI KI BOLIYON KA VIKAS)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *