टूटे पंखों से परवाज तक (Tute Pankhon Se Parwaj Tak)

Rs 290.00

4 items sold

  • Publisher: The Marginalised Publication
  • Authored by: Sumitra Mehrol
  • Pages: 167
  • Year: 2021, 1st Ed.
  • ISBN: “978-81-935616-8-3-“
  • Binding: paper Back
  • Price: Rs. 290
  • Language: Hindi

Description

स्त्री, दलित और शारीरिक रूप से विकलांग किसी रचनाकार की यह पहली आत्मकथा है. लेखिका, सुमित्रा महरोल कहती हैं ‘ हाशिये पर रहने की पीड़ा और त्रास को मैंने एक से अधिक स्तरों पर झेला है. एक से अधिक कारण थे मुझे उपेक्षित करने को, मेरे आत्मविश्वास को रौंद, दीन-हीन स्थितियों में रहकर, विवश भाव में दूसरों पर जीवन बसर करने को… मुझे यह जिन्दगी स्वीकार न थी.

पढ़ें पूरी आत्मकथा

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “टूटे पंखों से परवाज तक (Tute Pankhon Se Parwaj Tak)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *